जनन क्या होता है ? ये कितने प्रकार के होते है ?

जनन क्या होता है-

प्रजनन द्वारा जीवधारी अपने सामान संतति को जन्म देता है इससे जीव प्रजाति पीढ़ी दर पीढ़ी सृष्टि में बनी रहती है

जीवो में जनन दो प्रकार से होता है 
(1.) अलैंगिक (asexual ) तथा (2.) लैंगिक (sexual) जनन

.अलैंगिक जनन मैं एकल जीव संतति उत्पन्न करने की क्षमता रखता है संतति एक दूसरे के समरूप और अपने जनक से अनुवांशिक रूप से समान अर्थात क्लोन (clone) होती है ।

अलैंगिक जनन सामान्यता सरल संरचना वाले जीवो में पाया जाता है जैसे प्रोटीस्टा एवं मोनेरा संघ के सदस्यों में।

अलैंगिक जनन निम्न विधि द्वारा होता है

विखंडन- इसमें मृत शरीर के विभाजन से संतति का निर्माण होता है।

मुकुलन - मृत शरीर से एक छोटी सी कलिका बनती है जो वृद्धि करके पूर्ण जंतु में विकसित हो जाते हैं यह मृत शरीर से अलग होकर स्वतंत्र जीवन व्यतीत करता है उदाहरण- स्पंज हाइड्रा आदि ।

अनिषेकजनन - यह भी अलैंगिक जनन की एक विधि मानी जाती है इसमें बिना निषेचन के ही अन्य वृद्धि करके वयस्क का निर्माण करता है जैसे मधुमक्खी के नर ततैया रोटीफर्स कुछ पक्षियों एवं छिपकली मैं मादा युग्मक का निर्माण बिना निषेचन के ही होता है।

पुनरुदभवन- अनेक प्राणियों में पुनरुदभवन द्वारा जनन होता है इसमें जीवधारी क्षतिग्रस्त भाग का पूर्ण निर्माण कर लेता है जैसे अमीबा स्पंज हाइड्रा आदि के टुकड़े से पूर्ण जीव बन जाता है ।


लैंगिक जनन में विपरीत लिंग वाले जीवो की आवश्यकता होती है इनमें नर तथा मादा युग्मक का निर्माण होता है नर तथा मादा एक युग्मको के संयुगमन को निषेचन कहते हैं । इसके फलस्वरूप युग्मनज बनता है युग्मनज से वृद्धि विभाजन एवं विभेदन से नए जीव का विकास होता है।

लैंगिक जनन की कुछ घटनाएं -

1.निषेचन पूर्व घटनाएं, 2.निषेचन तथा 3.निषेचन पश्च घटनाएं


निषेचन पूर्व घटनाएं-
इसके अंतर्गत युग्मक जनन तथा युग्मक स्थानांतरण सम्मिलित है युग्मक जनन द्वारा अगुणित युग्मा को का निर्माण होता है प्राणी प्राय एक लिंगी होते हैं । कुछ प्राणी द्विलिंगी होते हैं जैसे - स्पंज टेपवर्म केंचुआ जोक आदि।

निषेचन (fertilization)
नर तथा मादा युग्मको का संलयन निषेचन कहलाता है ।
मत्स्य , उभयचर प्राणियों में बाह्य निषेचन होता है सरीसृप पक्षियों तथा स्तनी प्राणियों में और ब्रायोफाइटा टेरिडोफाइटा जिम्नोस्पर्म्स तथा एंजियोस्पर्म्स पादपों में आंतरिक निषेचन होता है।

निषेचन पश्च घटनाएं(post fertilization event)
नर तथा मादा युग्मक के संलयन से द्विगुणित युग्मनज बनता है शैवाल फंजाई , ब्रायोफाइट्स में युग्मनज अर्धसूत्री विभाजन द्वारा अगुणित बीजाणु बनाता है जो अंकुरित होकर नए पादप को का निर्माण करते हैं द्विगुणित जीवो में युग्मनज embryogenesis द्वारा भ्रूण का निर्माण करता है।

Post a Comment

0 Comments